Anant Chaturdashi: अनंत चतुर्दशी के दिन करें ये काम और पाएं गणपति संग श्रीहरि का आशीर्वाद

0
18
Advertisement


गणपति
को
कहा
जाता
है
अलविदा

भादो
माह
के
शुक्ल
पक्ष
की
चतुर्थी
के
दिन
गणेश
उत्सव
का
समापन
होता
है।
इस
दिन
गणेश
प्रतिमा
का
विसर्जन
किया
जाता
है।
कई
लोग
डेढ़,
तीन,
पांच
दिन
में
भी
गणपति
भगवान
का
विसर्जन
कर
देते
हैं।
मगर
ज्यादातर
लोग
अनंत
चतुर्दशी
के
दिन
धूमधाम
से
गणपति
बप्पा
को
अलविदा
कहते
हैं।

अनंत भगवान की पूजा

अनंत
भगवान
की
पूजा

अनंत
चतुर्दशी
के
दिन
भगवान
विष्णु
के
अनंत
रूप
की
पूजा
की
जाती
है।
अनंत
भगवान
विष्णु
के
सेवक
का
नाम
है।
इस
दिन
श्रीहरि
की
आराधना
करने
से
श्रेष्ठ
फल
की
प्राप्ति
होती
है।

करें विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ

करें
विष्णु
सहस्त्रनाम
का
पाठ

इस
दिन
जो
जातक
विष्णु
सहस्त्रनाम
का
पाठ
करता
है
उसे
श्रीहरि
की
विशेष
कृपा
प्राप्त
होती
है।
श्री
विष्णु
सहस्त्रनाम
स्तोत्र
का
पाठ
करने
से
सभी
मनोकामनाएं
पूरी
होती
हैं।
घर
परिवार
में
अनुकूलता
बनी
रहती
है।
घर
में
सुख-समृद्धि
का
वास
होता
है।

बांधे अनंत सूत्र

बांधे
अनंत
सूत्र

हिंदू
धर्म
में
अनंत
सूत्र
की
खास
महत्ता
है।
इस
दिन
व्रत
रखा
जाता
है
और
भगवान
विष्णु
के
अनंत
रूप
का
पूजन
किया
जाता
है।
पूजा
के
पश्चात्
बाजू
पर
अनंत
सूत्र
बांधा
जाता
है।
इसमें
कच्चे
धागे
से
बना
धागा
लिया
जाता
है
जिसमें
14
गांठे
होती
हैं
और
फिर
इसे
बाजू
पर
बांधा
जाता
है।
इससे
भगवान
विष्णु
की
अनंत
कृपा
बनी
रहती
है।

अनंत चतुर्दशी पर व्रत का महत्व

अनंत
चतुर्दशी
पर
व्रत
का
महत्व

इस
दिन
व्रत
करने
की
महत्ता
का
वर्णन
स्वयं
भगवान
श्रीकृष्ण
कर
चुके
हैं।
पांडव
अपना
राजपाट
जुए
में
हार
गए
थे।
उन्होंने
श्रीकृष्ण
से
दोबारा
अपना
सबकुछ
खोया
हुआ
वापस
पाने
का
उपाय
पूछा,
इसके
जवाब
में
कृष्ण
भगवान
ने
उन्हें
पूरे
परिवार
को
अनंत
चतुर्दशी
का
व्रत
करने
की
सलाह
दी।
इस
दिन
भगवान
विष्णु
की
विधि
अनुसार
पूजा

व्रत
करने
से
सभी
प्रकार
की
समस्याओं
का
हल
मिलता
है।





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here