Tarpan Mantra in Hindi: पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण देते हुए इन मंत्रों का करें जाप

0
17
Advertisement


पिता
को
तर्पण
देने
का
मंत्र

पिता
को
तर्पण
देते
समय
आप
पहले
गंगा
जल
में
दूध,
तिल
और
जौ
मिला
लें।
इसके
बाद
तीन
बार
पिता
को
जलांजलि
दें।
जल
देते
समय
मन
ही
मन
ध्यान
करें
कि
वसु
रूप
में
मेरे
पिताजी
जल
ग्रहण
करें
और
वो
तृप्त
हों।
इसके
पश्चात्
अपने
गोत्र
का
नाम
लेकर
कहें,
“गोत्रे
अस्मतपिता
(पिता
जी
का
नाम)
शर्मा
वसुरूपत्
तृप्यतमिदं
तिलोदकम
गंगा
जलं
वा
तस्मै
स्वधा
नमः,
तस्मै
स्वधा
नमः,
तस्मै
स्वधा
नमः।”

माता को तर्पण देने का मंत्र

माता
को
तर्पण
देने
का
मंत्र

मां
को
तर्पण
देते
वक्त
अपने
गोत्र
का
नाम
(माता
का
नाम)
“देवी
वसुरूपास्त्
तृप्यतमिदं
तिलोदकम
गंगा
जल
वा
तस्मै
स्वधा
नमः,
तस्मै
स्वधा
नमः,
तस्मै
स्वधा
नमः”
मंत्र
का
जाप
करें।

दादा जी को तर्पण देने का मंत्र

दादा
जी
को
तर्पण
देने
का
मंत्र

अपने
दादा
जी
को
तर्पण
देते
वक्त
अपने
गोत्र
का
नाम
लें
और
कहें,
गोत्रे
अस्मत्पितामह
(दादा
जी
का
नाम)
शर्मा
वसुरूपत्
तृप्यतमिदं
तिलोदकम
गंगा
जलं
वा
तस्मै
स्वधा
नमः,
तस्मै
स्वधा
नमः,
तस्मै
स्वधा
नमः।”

दादी को तर्पण देने का मंत्र

दादी
को
तर्पण
देने
का
मंत्र

अपनी
दादी
को
तर्पण
देते
समय
गोत्र
का
नाम
लें
और
कहें
“गोत्रे
पितामां
(दादी
का
नाम)
देवी
वसुरूपास्त्
तृप्यतमिदं
तिलोदकम
गंगा
जल
वा
तस्मै
स्वधा
नमः,तस्मै
स्वधा
नमः,
तस्मै
स्वधा
नमः।”





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here